Uttarakhand Weather: सावधान! इन चार जिलों में बहुत भारी बारिश का अलर्ट, पहाड़ों पर भूस्खलन की आशंका

Uttarakhand Press 07 July 2023: Uttarakhand Weather मानसून की शुरुआत से ही उत्तराखंड में बारिश का दौर जारी है। कहीं-कहीं भारी वर्षा का क्रम बना हुआ है तो कहीं बादलों का डेरा है। मौसम विभाग ने आज कुमाऊं के ज्यादातर क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा को लेकर आरेंज अलर्ट जारी किया है। जिसके चलते पांच जिलों में स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया है।

मानसून की शुरुआत से ही उत्तराखंड में बारिश का दौर जारी है। कहीं-कहीं भारी वर्षा का क्रम बना हुआ है तो कहीं बादलों का डेरा है।वहीं आज सात जुलाई यानी शुक्रवार को मौसम विभाग ने कुमाऊं मंडल में भारी बारिश की आशंका जताई है। यहां कई जिलों में आज स्‍कूल बंद हैं।

चमोली में दो दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश ने जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। कई ग्रामीण सड़कें बंद हैं। विकास खंड नंदानगर घाट को जोड़ने वाला सितेल कनोल मोटर मार्ग भी बाधित है। बारिश के चलते बरसाती गदेरा उफान पर है और गदेरे का जल स्तर बड़ने से सड़क का कुछ हिस्सा ढह गया है। गांव के युवा गदेरे के ऊपर लकड़ी की बल्‍ली पर जान हथेली में रखकर बाइक को पार करवाया। चमोली जिले में मौसम खराब बना हुआ है। यहां बादल लगे हुए हैं। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग छिनका मे मलबा आने के कारण मार्ग अवरूद्ध हो गया है। वहीं आज सुबह से देहरादून में बादल छाए रहे। वर्तमान मौसम को देखते हुए बारिश की संभावना जताई जा रही है।

भारी से बहुत भारी वर्षा को लेकर आरेंज अलर्ट:
मौसम विभाग ने आज कुमाऊं के ज्यादातर क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा को लेकर आरेंज अलर्ट जारी किया है। जिसके चलते पांच जिलों में स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया है। गढ़वाल में भी कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ तीव्र बौछारें पड़ने के आसार हैं। जिसके लिए मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है।

पर्वतीय मार्गों व नदियों के किनारे विशेष सतर्कता बरतने की सलाह दी गई है। बीते कुछ दिनों से प्रदेश के ज्यादातर क्षेत्रों में वर्षा का दौर जारी है। पहाड़ से लेकर मैदान तक बौछारों का क्रम बना हुआ है।

इन चार जिलों में बहुत भारी बारिश का अलर्ट:
मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार शुक्रवार को प्रदेश में ज्यादातर क्षेत्रों में भारी वर्षा के आसार हैं। खासकर नैनीताल, चंपावत, ऊधमसिंह नगर और हरिद्वार में भारी से बहुत भारी वर्षा को लेकर आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। वहीं, अन्य जिलों में गरज-चमक के साथ तीव्र बौछारें पड़ सकती हैं।

नदी-नालों में जल स्तर में अचानक हो सकती है वृद्धि:
मौसम विभाग ने पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन, चट्टान खिसकने, भू-कटाव होने की आशंका है। निचले इलाकों में नदी-नालों में जल स्तर में अचानक वृद्धि हो सकती है। सभी जिलों को संवेदनशील क्षेत्रों में विशेष सतर्कता बरतने की सलाह दी है। अगले चार दिन मौसम का मिजाज इसी प्रकार का बना रहने की उम्मीद है।

Read Previous

Accident: दिल्ली-जयपुर हाईवे पर किनारे खड़े लोगों को वाहन ने रौंदा, चार की मौत, कई घायल

Read Next

Uttarakhand: अब चमोली में Love Jihad, कर्णप्रयाग से किशोरी को भगा ले गया मुस्लिम युवक दिल्ली में पकड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *