शादी के अगले दिन दूल्हा बन गया पिता, सुबह विदा होकर आई दुल्हन, शाम में कराया गया प्रसव, लड़केवालों ने कही ये बात

Uttarakhand Press 29 June 2023: दनकौर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी युवक की सोमवार को बुलंदशहर की एक युवती से शादी हुई थी। शादी के बाद दुल्हन ससुराल आ गई। मंगलवार की शाम दुल्हन को अचानक पेट में दर्द होना शुरू हुआ। अस्पताल में नव विवाहिता ने एक बच्चे को जन्म दिया।

जरा सोचिये कि शादी करके दुल्हन विदा होकर ससुराल पहुंचे और अगले ही दिन वह एक शिशु को जन्म दे तो दूल्हे का क्या हाल होगा। जी हां, ऐसा ही एक मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर जिले के दनकौर क्षेत्र के एक गांव में, जहां शादी के महज एक दिन बाद ही दुल्हन ने बच्ची को जन्म दे दिया, जिसके चलते दूल्हा और उसका परिवार हैरान हैं। मामला कोतवाली तक भी पहुंचा। युवक ने दुल्हन को रखने से इनकार कर दिया है, जिसके बाद मायके वाले अपनी बेटी और बच्चे को अपने साथ ले गए हैं। यह मामला क्षेत्रभर में चर्चा का विषय बना हुआ है।

दनकौर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासी युवक की सोमवार को बुलंदशहर की एक युवती से शादी हुई थी। शादी के बाद दुल्हन ससुराल आ गई। मंगलवार की शाम दुल्हन को अचानक पेट में दर्द होना शुरू हुआ, जिसके बाद ससुराल वालों ने उसे दनकौर के अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने जांच के दौरान उसे करीब सात महीने की गर्भवती बताया, जिसे सुनकर दूल्हा और ससुराल वाले हैरान हो गए।

कुछ देर बाद ही डिलिवरी भी हो गई, जिसने एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया। मामले की सूचना दुल्हन के मायके वालों को भी दी गई, जिसके बाद वह भी अस्पताल पहुंच गए। युवक और उसके परिवार के लोगों ने दुल्हन को अपने साथ रखने से साफ इनकार कर दिया, जिसके बाद मामला कोतवाली पुलिस तक भी पहुंचा।

दूल्हा पक्ष का आरोप है कि जब पांच महीने पहले रिश्ता तय हुआ था, उस वक्त उन्होंने लड़की को देखा भी था, लेकिन उनको मामले की जानकारी नहीं हो पाई। साथ ही दुल्हन पक्ष ने भी उनसे यह बात छिपाई है, जिसके चलते उन्होंने दुल्हन को रखने से मना कर दिया है। दुल्हन पक्ष अपनी बेटी और नवजात शिशु को साथ लेकर बुलंदशहर चला गया है। कोतवाली प्रभारी संजय सिंह ने बताया कि बुधवार को दोनों पक्षों का समझौता हो गया है।

Read Previous

हादसा : पिकनिक पर जा रहे व्यापारियों की कार खाई में गिरी, तीन की मौत, प्रयागराज के रहने वाले थे तीनों

Read Next

ईद-उल-अजहा: उत्तरकाशी के पुरोला में सामूहिक रूप से नहीं पढ़ी गई नमाज, सतपुली में बाहरी नहीं लगाएगा फेरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *